Sucess Story

एक वक्त लगाते थे सब्जी का ठेला और आज हैं जज, पढ़िए शिवकांत जी की ये सफलता की कहानी

आज हम बात कर रहे हैं मध्यप्रदेश के रहने वाले शिवाकांत कुशवाहा की सफलता की कहानी के बारे में। आज हम जानेंगे कि कैसे एक समय में सब्जी का ठेला चलाने वाले एक आदमी ने, सिविल जज बनने का सफर कैसे तय किया। उनको इस सफर में क्या क्या तकलीफ आई, और कैसे उन्होंने इन सभी तकलीफों का हल निकाला। तो आइए चलिए जानते हैं उनकी सफलता की कहानी।

उनकी कहानी शुरू होती है मध्यप्रदेश से जहां से उन्होंने अपनी पढ़ाई शुरू की। वह पढ़ने में काफी अच्छे थे, पर आर्थिक रूप से काफी कमजोर थे। उनके घर में कोई और पढ़ा लिखा भी नहीं था। और उनके पिता की इतनी आमदनी थी नहीं की वो उनको पढ़ा पाएं। और ना ही उनको पढ़ाई का महत्व उतना मालूम था। और उनके गांव में भी कोई अधिक पढ़ा लिखा नहीं है, तो उनका समर्थन करने वाला भी कोई नहीं है।

उनको अपने पढ़ाई के खर्च के लिए खुद ही संघर्ष करना पड़ा। और इसी कारण से उन्होंने सब्जी का ठेला खोला। इससे उनकी पढ़ाई का खर्च पूरा हो जाता था। और उनकी बस एक ही इच्छा था की वो पढ़ लिख कर कुछ बड़ा जरूर करें। उनके लिए पढ़ाई करना और साथ ही साथ सब्जी बेचना काफी मुश्किल काम था। फिर भी उन्होंने कभी भी हार बिलकुल नहीं मानी, और हमेशा धीरज बनाए रखा।

उनकी सालों की मेहनत तब जा कर के सफल हुई, जब 9 साल के अथक प्रयास के बाद उनको सफलता मिली। वो कई सालों से सिविल जज बनने के लिए मेहनत कर रहे थे। और 9 साल के प्रयास के बाद उनको अपने लक्ष्य में सफलता मिल गई। और आखिरकार वो सफल हो ही गए, और आज के समय में वो एक सिविल जज बन चुके हैं। उनकी इस मेहनत को सलाम।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *