Latest News

इसरो के राकेट रिसर्च प्रोजेक्ट में हुआ बिहार के हर्ष का सिलेक्शन, पिता चलाते हैं ई-रिक्शा

बिहार भारत का ऐसा राज्य जहां पढ़ाई पर बड़े जोर शोर से ध्यान दिया जाता है। भारत का पिछड़ा राज्य होने की वजह से यहां के अधिकतर लोगों की सोच यह है कि पढ़ाई की मदद से ही इस गरीबी से बाहर निकला जा सकता है। और यही कारण है कि हमें भारत के इस राज्य से हर बड़े सरकारी इम्तेहान में सबसे अधिक टॉपर दिखाई देते हैं और इसलिए इस राज्य से देश के सबसे अधिक आईएएस और आईपीएस अधिकारी भी बाहर निकल कर आते हैं। और इस बार ऐसा ही एक गर्व का पल दिया है बिहार के एक छोटे से बच्चे ने।

इस बच्चे का नाम है, हर्ष सिंह राजपुत जो कि बिहार का ही रहने वाला है और इसका चयन हमारे भारत के सबसे प्रमुख संस्थानों में से एक, इसरो में हो चुका है। और सबसे हैरानी की बात तो यह है कि हर्ष की उम्र अभी मात्र 16 साल की ही है। इसके साथ हर्ष इसरो में चयनित होने वाले सबसे कम उम्र के व्यक्ति भी बन चुके हैं। उनकी असीमित प्रतिभा ने ही आज उनको यहां तक लाने का काम किया है। और उम्मीद है वो इसी तरह आगे भी कमाल करते रहेंगे।

हर्ष से बात करने पर उन्होंने बताया कि वो काफी खुश हैं और साथ ही साथ वहां जाने के लिए काफ़ी उत्साहित भी हैं। उन्होंने बताया कि उनको उम्मेद ही नहीं थी की उनको वहां जाने का मौका मिलेगा। उनके पिता से बात करने पर इन्होंने कहा कि वे काफी खुश हैं। और एक छोटे से रिक्शा चालक होने के कारण उन्होंने कभी ऐसा सपने में भी नहीं सोचा था कि उनका बेटा इतनी छोटी सी उम्र में यहां तक पहुंच जाएगा। उन्होंने बताया कि हर्ष की एक छोटी सी बहन भी है और मां घर का काम करती हैं और वे दोनो भी काफी प्रसन्न हैं।

Related Articles